क्षत्रिय धर्म और कर्म

क्षत्रिय को जनता की सेवा और रक्षा करने के लिए किसी राजनितिक पार्टी के टिकट की जरुरत नहीं होती, क्षत्रिय श्री राम के वंसज हैं रघुवंशी हैं और एक क्षत्रिय का धर्म और कर्म है:- जनता की रक्षा करना, धर्म की रक्षा करना, अन्याय के खिलाफ लड़ना और जरुरतमंदो की सेवा करना, और ये अधिकार आपको एक क्षत्रिय परिवार में जन्म लेने से स्वतः ही मिल जाते हैं इसलिए एक क्षत्रिय को इन अधिकारों के लिए किसी राजनितिक पार्टी के सहयोग की जरुरत नहीं है| जब क्षत्रिय अपने कर्म और धर्म की पालना करेंगे तो जनता के दिलों में स्वतः ही आपका राज रहेगा !

धन्यवाद !!

ज्ञान सिंह नरुका SRSSS
श्री राजपूत समाज सेवा संघ

2 thoughts on “क्षत्रिय धर्म और कर्म

  1. * Gyan banna we should fix a meeting by month wise ,
    * where we all can discussed our all the samaj matter,
    * also the venue and dates should be at our site as well as whats app group.
    * also there should be a option for joining of SRSSS at web site + whats app.
    Regards
    Pooran Singh Shekhawat
    Thikana – Naren
    Distt – Sikar
    81046-47505
    94146-34021

    1. Thank you Pooran banna for your suggestions. We are working on our website and we will apply these features on our site very soon and we will also try to fix a monthly meeting.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up